ग्रेटर नोएडा। बसपा सुप्रीमो मायावती के गांव में शुक्रवार को सीएम योगी आदित्यनाथ का जन्मदिन और विश्व पर्यावरण दिवस पूरे धूम धाम से मनाया गया। इस अवसर पर बीजेपी कार्यकर्ताओं ने जहां एक तरफ पर्यावरण संरक्षण का संदेश देते हुए लोगों को पौधों का वितरण किया, वहीं दूसरी ओर लोगों कोरोना महामारी को लेकर जागरूक करते हुए मास्क और सेनेटाइजर का भी वितरण किया। लेकिन इस दौरान कार्यक्रम में मौजूद बीजेपी जिलाध्यक्ष संचालनकर्ता की एक प्रतिक्रिया पर पानी-पानी हो गए। इतना ही नहीं जिलाध्यक्ष ने मौके पर ही खड़े होकर मौके पर मौजूद लोगों से माफी भी मांगी।

बता दें कि दादरी का बादलपुर गांव बसपा सुप्रीमो एवं प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती का पैतृक गांव है। जिसके चलते अभी तक गांव में बीएसपी का बोल-बाला था। लेकिन मायावती का घर कहे जाने वाले बादलपुर में 2014 के लोकसभा चुनावों के समय से ही गांव के महेंद्र नागर प्रधान बीजेपी का झंडा बुलंद किए हुए हैं। यही वजह भी थी कि बीते लोकसभा और विधानसभा चुनावों में बीजेपी को मायावती के घर में ही अच्छे खासे वोट मिले थे। हाल ही में लॉकडाउन के दौरान प्रधान महेंद्र नागर ने अपनी टीम के दम पर 50 दिनों तक गरीबों व जरूरतमंदों के लिए रसोई का संचालन किया था। जिले की शायद ही यह पहली रसोई थी जिसने आपदा के इस दौर में भी गरीब  और जरूरतमंदों को मिठाई और पनीर तक का स्वाद चखाया था।

इसी बीच आज 5 जून को प्रधान महेंद्र नागर ने गांव में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के जन्मदिन और विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करते हुए एक कार्यक्रम का आयोजन किया। जिसमें बीते दिनों जरूरतमंदों की सेवा करने और रसोई के संचालन में सहयोग देने वाले लोगों को आमंत्रित कर पौधों, मास्क और सेनेटाइजर आदि का वितरण किया था। इसी कार्यक्रम में उन्होंने पार्टी प्रोटोकॉल के तहत क्षेत्रीय विधायक तेजपाल सिंह नागर जिलाध्यक्ष विजय भाटी समेत अन्य पार्टी पदाधिकारी भी बुलाए हुए थे। लेकिन कार्यक्रम में पहुंचने के साथ ही जिलाध्यक्ष विजय भाटी ने संचालनकर्ता से माइक लेते हुए कार्यक्रम को लेकर आपत्ति जता दी। उन्होंने कहा कि आयोजकों को कार्यक्रम में इस तरह लोगों को नहीं बुलाना चाहिए था। इतना ही नहीं जिलाध्यक्ष ने इसे अनुशासनहीनता तक करार दे दिया।

जिलाध्यक्ष विजय भाटी की यही बात सभा में मौजूद लोगों व कार्यक्रम का संचालन कर रहे उम्मीद सामाजिक संस्था के अध्यक्ष डॉ देवेंद्र नागर को बुरी लग गई। जिसपर उन्होंने कुछ ही देर बाद जिलाध्यक्ष से कहा कि आपने सभा में आए लोगों के सम्मान को तार तार कर दिया है।आपने भी यहां बैठे लोगों और आयोजकों का अपमान ऐसे ही किया है जैसे केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी ने ग्रेटर नोएडा एक्सपोमार्ट में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान मंच पर आपको कुर्सी ना मिलने पर धमकाते हुए किया था। उस दौरान जितनी पीड़ा आपको हुई होगी आज उतनी ही पीड़ा आपके श्ब्दों से यहां बैठे लोगों को हुई है। आपकी उस बेज्जती को लेकर उस समय पूरा समाज आपके साथ खड़ा था। लेकिन आज आपने उसी समाज और कार्यकर्ताओं के मनोबल को गिराने का काम किया है। संचालनकर्ता के इतना कहने के साथ ही कार्यक्रम में मौजूद लोगों ने जोर दार तालियां बजाकर उनकी बात का समर्थन जता दिया।

बस फिर क्या था बीजेपी जिलाध्यक्ष विजय भाटी पूरी तरह पानी-पानी हो गए और उन्होंने खड़े होकर मौके पर ही माफी मांगी। उन्होंने कहा कि यदि उनके शब्द किसी को बुरे लगे हैं तो मैं माफी चाहता हूं। इस संबंध में जब ग्रेनो मीडिया ने जिलाध्यक्ष विजय भाटी से बात की तो उन्होंने कहा कि उनकी किसी से कोई नाराजगी नहीं है। महेंद्र प्रधान ने बहुत अच्छा कार्यक्रम रखा और सबसे बड़ी बात यह है कि इतने लोग होने के बावजूद कार्यक्रम में सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन किया गया। वो कार्यक्रम में लोगों से बस यह कह रहे थे कि यदि हम ही लोग इस तरह भीड़ एकत्र करेंगे तो और लोग हम पर सवाल खड़े करेंगे। लेकिन मेरा कोई शब्द शायद उन्हें बुरा लगा, जिसे लेकर मौके पर ही बातचीत कर कार्यक्रम को संपन्न कराया गया। हालांकि उनके भरी सभा में इस तरह पानी-पानी होने और माफी मांगे जाने की यह खबर पूरे क्षेत्र मे तेजी से चल रही है। राजनीतिक पंडितों की माने तो आने वाले दिनों में इसके कुछ राजनीतिक परिणाम भी सामने आ सकते हैं।