Breaking Newsदादरीशिक्षा

वैश्विक महामारी के इस दौर में स्कूल संचालक ने की यह बड़ी घोषणा, दादरी से शाहजहांपुर तक हुआ असर

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के चलते देश में चल रहे लॉकडाउन के बीच दादरी के दुजाना स्थित आर बी पब्लिक स्कूल चेयरमैन ने लोगों की मदद की एक अनौखी घोषणा की है। स्कूल चेयरमैन की इस घोषणा ने अभिभावकों के मन में एक खास जगह बना ली है

  • स्कूल संचालक ने छात्रों की अप्रैल, मई और जून माह की फीस को किया माफ
  • सोशल मीडिया पर उठा मुद्दा तो यूपी के शाहजहांपुर में भी स्कूल एक स्कूल संचालक ने की फीस माफ
  • कोरोना संकट की इस घड़ी में दूसरे स्कूल संचालकों से भी की फीस माफ करने की अपील

दादरी। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के चलते देश में चल रहे लॉकडाउन के बीच दादरी के दुजाना स्थित आर बी पब्लिक स्कूल चेयरमैन ने लोगों की मदद की एक अनौखी घोषणा की है। स्कूल चेयरमैन की इस घोषणा ने अभिभावकों के मन में एक खास जगह बना ली है। दरअसल, स्कूल चेयरमैन ने सोशल मीडिया के माध्यम से कोरोना संकट को ध्यान में रखते हुए मदद के तौर पर स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों की अप्रैल, मई और जून की फीस माफ करने का ऐलान कर दिया है। उनकी इस घोषणा ने सोशल मीडिया पर ऐसा असर दिखाया कि उनके बाद यूपी के शाहजहांपुर में चलने वाले एक स्कूल के संचालक ने भी उन्हीं की तर्ज पर छात्रों की तीन माह की फीस को माफ कर दिया है। जिसके बाद सोशल मीडिया पर लोग अन्य स्कूल संचालकों से भी इसी तरह फीस माफ करने की मांग कर रहे हैं।

स्कूल चेयरमैन मनोज नागर द्वारा सोशल मीडिया पर दी गई फीस माफी की घोषणा।

बता दें कि दादरी क्षेत्र के दुजाना गांव निवासी मनोज नागर एक सामाजिक कार्यकर्ता एवं अंतर्राष्ट्रीय भगवा सेना के राष्ट्रीय महासचिव हैं। नागर अपने गांव दुजाना में ही एक कक्षा 8 तक का अंग्रेजी मीडियम स्कूल चलाते हैं। स्कूल में बड़ी संख्या में दुजाना और आस पास के दर्जनभर गांवों के छात्र छात्राएं पढ़ने आते हैं। इस सब के बीच हाल ही में कोरोना वायरस को वैश्विक महामारी घोषित किए जाने के बाद देश को 21 दिन के लिए लॉकडाउन कर दिया गया है। जिसके बाद किसी को घर के किराए की तो किसी को होम लोन की ईएमआई की चिंता सताने लगी। जिसपर आरबीआई ने तीन माह तक किसी के बैंक अकाउंट से कोई ईएमआई नहीं काटे जाने का आदेश दे दिया। लेकिन अभिभावकों के सामने बच्चों की फीस जमा किए जाने का संकट जस का तस था और कई सारे अभिभावक मनोज नागर को लगातार फोन कर फीस जमा करने में अस्मर्थता जता रहे थे।

कोरोना की वैश्विक महामारी के इस दौरान में मनोज नागर ने अभिभावकों की उसी समस्या को ध्यान में रखते हुए सोशल मीडिया पर घोषणा कर दी कि उनके स्कूल में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं की अप्रैल, मई और जून की फीस माफ की जाती है। वहीं स्कूल में पढ़ने वाली छात्राओं के लिए पूरे साल फीस में 25 फीसदी की छूट दी जाएगी। लेकिन इस घोषणा के साथ ही उन्होंने यह भी साफ किया कि इस फीस माफी का कोई असर स्कूल के टीचर्स की सेलरी पर नहीं पड़ेगा। उन्हें तीन माह का उनका वेतन समय पर दिया जाएगा।

शाहजहांपुर के स्कूल संचालक द्वारा की गई फीस माफी की घोषणा।

मनोज नागर का कहना है कि तीन माह की माफ की गई फीस व छात्राओं को दी जाने वाली छूट के हिसाब से उनके स्कूल को करीब 21 लाख रुपए का घाटा होगा। लेकिन वो इसे घाटा नहीं मानकर संकट की इस घड़ी में अपनों के लिए अपना दायित्व मानते हैं। ऐसे में उनकी इस घोषणा ने अभिभावकों के साथ साथ समाज के अन्य लोगों के दिलों में भी जगह बना ली है। सोशल मीडिया पर चली उनकी इस पहल की खबरों को देखते हुए यूपी के शाहजहांपुर स्थित हौली चिल्ड्रन्स पब्लिक स्कूल के प्रबंधक ने भी फीस माफी का यह ऐलान किया है। बहरहाल उनकी इस घोषणा को लेकर सोशल मीडिया पर एक बहस छिड गई है। जिसके बाद लोग अपने बच्चों के स्कूल संचालकों व अन्य स्कूल संचालकों से भी वैश्विक महामारी के इस दौर में फीस माफ किए जाने की मांग कर रहे हैं।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close