Breaking Newsदेश-विदेशशिक्षास्वास्थ्य

कोरोना से जंग में मिली बड़ी कामयाबी, आईआईटी दिल्ली के कुसुमा स्कूल ऑफ बायोलॉजिकल साइंसेंस ने बनाई टेस्टिंग किट

  • चीन समेत अन्य देशों से मंगाई गई कोरोना जांच किट से होगी चार गुना सस्ती
  • आईसीएमआर ने आईआईटी द्वारा तैयार की गई टेस्टिंग किट को दी मंजूरी
  • किट को आईआईटी दिल्ली की कुसुमा स्कूल ऑफ बायोलॉजिकल साइंसेंस की टीम ने किया तैयार

NEW DELHI ⁄  देश में COVID-19 वैश्विक महामारी से चल रही जंग में बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। जिसके बाद देश को अब COVID-19 की जांच के लिए चीन या फिर किसी अन्य देश पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा। क्योंकि आईआईटी दिल्ली की टीम ने कोरोना टेस्टिंग किट बनाने में बड़ी सफलता हांसिल की है। जिसके बाद आईआईटी दिल्ली COVID-19 टेस्टिंग किट बनाने वाला देश का पहला शैक्षणिक संस्थान बन गया है। आईसीएमआर ने भी आईआईटी की पीसीआर आधारित टेस्टिंग किट को मंजूरी दे दी है।

यह भी पढ़ें :- लॉकडाउन के बाद उत्तर प्रदेश में कम दामों पर होगी शराब की बिक्री !

बताया जा रहा है कि यह किट अन्य देशों से मंगाई जा रही COVID-19 टेस्टिंग किट से चार गुना तक सस्ती पड़ेगी। हालांकि, इस किट का उत्पादन कितना होगा, इस बारे में जानकारी नहीं है। इससे संक्रमण का पता भी जल्दी लग जाएगा। इस किट को संस्थान की कुसुमा स्कूल ऑफ बायोलॉजिकल साइंसेंस (केएसबीएस) की टीम के द्वारा तैयार किया गया है। टीम के वरिष्ठ सदस्य प्रोफेसर बिश्वजीत कुंदू और प्रोफेसर विवेकानंद पेरुमल द्वारा मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि देश COVID-19 संक्रमण का पहला मामला केरल में सामने आने के बाद ही इस टेस्टिंग किट को बनाने का काम शुरू कर दिया गया था।

यह भी पढ़ें :- कोरोना संकट काल में राफेल और मल्टीरोल हेलिकॉप्टर की खरीद पर कैसे छाए संकट के बादल

जिसे तैयार करने के लिए टीम के सदस्यों के द्वारा 22 मार्च से 9 अप्रैल तक लगातार प्रतिदन 18-18 घंटे काम किया गया। लॉकडाउन के चलते तैयार की गई टेस्टिंग किट को टेस्ट के लिए पुणे भेजने में दिक्कत आ रही थी। लेकिन कूरियर एजेंसी से काफी मान मुन्नवल करने के बाद इसे पुणे स्थित लैब मे भेजा जा सका। जिसके बाद प्रोटोकॉल को मान्यता मिल गई है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close