Breaking Newsउत्तर प्रदेशएनसीआरग्रेनो वेस्ट सिटीग्रेनो सिटीदादरीनोएडा सिटीयमुना सिटीस्वास्थ्य

यूपी में तेजी से बढ़ रहा कोरोना संक्रमण और उससे मौत का आंकडा, जाने केंद्र सरकार ने क्यों किया मेरठ जिला प्रशासन को आगाह

GRENO MEDIA पर कोरोना से जुड़ी हर बड़ी खबर पाने के लिए ऐप डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोविड-19 महामारी लगातार अपना कहर बरपा रही है। जिसके चलते प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या और उससे मरने वालों का आंकड़ा तेजी से बढता जा रहा है। हालांकि प्रदेश में इस भयानक बीमारी से ठीक होने वालों का आंकड़ा भी अन्य प्रदेशों के मुकाबले और औसत से ज्यादा है। बावजूद इसके अधिकारी इस बात को लेकर परेशान हैं कि प्रदेश के जिन जिलों में कोरोना संक्रमण तेजी से पैर पसार रहा है उसे कैसे रोका जाए। यही वजह है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ में सप्ताह के दो दिन पूर्ण लॉकडाउन का फैसला लिया गया है। वहीं आगरा में भी स्थती लगातार खराब होती जा रही है। जहां अभी तक संक्रमितों का आंकड़ा 800 के पार पहुंच चुका है।

एक दिन में मिले अभी तक सबसे अधिक मरीज

बता दें कि यूपी में 16 मई को एक दिन में अब तक सबसे अधिक मरीज मिले हैं। शनिवार को आई कोरोना वायरस की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश के विभिन्न जनपदों में 203 मरीजों में वायरस मिलने की पुष्टि हुई है। वहीं शनिवार को नौ कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत भी हुई है। जबकि प्रदेश में अब तक 104 मौतें हो चुकी हैं। शनिवार को हुई मौत के जनपदवार आंकाड़ों की बात की जाए तो सबसे अधिक मौत 3 मौत आगरा में हुईं। वहीं झांसी 02, नोएडा 01, मेरठ 01 और मुरादाबाद व आजमंगढ़ में भी एक-एक मौत हुई है।

मेरठ को जनपद को लेकर केंद्र ने किया आगाह

इसी के साथ मेरठ में मौत का आंकडा कुल 19 हो चुका है। वहीं, एक पुलिसकर्मी, एक आशा कार्यकत्री सहित आठ लोगों की रिपोर्ट शनिवार को पॉजिटिव आई है। इस तरह मेरठ में कुल संक्रमितों की संख्या 320 हो गई है। उधर, सहारनपुर में मध्य प्रदेश से आए 10 प्रवासियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। सहारनपुर में अब कोरोना पॉजिटिव की कुल संख्या 203 हो गई है। ऐसे में केंद्र सरकार ने मेरठ प्रशासन को आगाह किया है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव प्रीति सूदन ने मेरठ सहित देश के 30 से अधिक महानगरों में कोरोना वायरस की स्थिति को लेकर चिंता जताई। उन्होंने मेरठ को लेकर कहा कि मेरठ की स्थिति चिंताजनक है। यदि सख्त कार्रवाई अमल में नहीं लाई गई तो 15 दिनों में केस दोगुने हो जाएंगे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close