दादरी। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बादलपुर के द्वारा 2 जुलाई से चलाए गए विशेष सर्विलांस अभियान का रविवार को समापन हो गया। अभियान के दौरान दस दिन में कुल 1907 लोगों के एंटीजन रैपिड टेस्ट कर कोरोना की जांच की गई। जिसमें 70 लोगों को कोरोना संक्रमण की पुष्टि की गई। अभियान के अंतिम दिन क्षेत्र के दुरयाई गांव, छपरौला औद्योगिक क्षेत्र व सीएचसी पर एंटीजन रैपिड टेस्ट कैंप लगाए गए। इस दौरान कुल 224 लोगों के द्वारा कोरोना टेस्ट कराया गया। जिनमें से दो लोगों को कोरोना संक्रमित पाया गया। कोरोना संक्रमित पाए जाने वाले दो लोगों में दुरयाई के ग्राम प्रधान भी शामिल हैं। जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल भेज दिया गया है।

सीएचसी बादलपुर पर तैनात फार्मासिस्ट एवं डीपीए के जिला उपाध्यक्ष दीपक शर्मा ने बताया कि सीएचसी द्वारा क्षेत्र में डीएम सुहास एलवाई एवं सीएमओ डॉ दीपक ओहरी के निर्देश पर बीते 2 जुलाई से एंटीजन रैपिड टेस्ट कैंप लगाए जा रहे हैं। अभियान को सफल बनाने के लिए सीएचसी प्रभारी डॉ अरविंद कुमार वैश्य के निर्देश पर सीएचसी क्षेत्र में डॉ रणवीर सिंह को कोविड सर्विलांस प्रभारी बनाया गया है। जिनके नेतृत्व में दस दिनों तक कुल 71 टीमों के द्वारा घर घर जाकर सर्वे किया गया। इस दौरान क्षेत्र के विभिन्न कोरोना संदिग्ध स्थानों व गांवों में कुल 1907 लोगों की एंटीजन रैपिड टेस्ट किए गए। जिनमें 70 लोगों को कोरोना संक्रमित पाया गया।

अभियान के अंतिम दिन तीन टीमों के द्वारा छपरौला औद्योगिक क्षेत्र, दुरयाई गांव एवं सीएचसी बादलपुर पर कैंप लगाए गए। जिनमें कुल 224 लोगों की कोरोना जांच की गई। इस दौरान दो लोगों को क्षेत्र के दुरयाई गांव में संक्रमित पाया गया। जिनमें एक ग्राम प्रधान भी शामिल हैं। दोनों संक्रमित लोगों को इलाज के लिए आईसोलेशन सेंटर भेज दिया गया है। वहीं रिपोर्ट प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग के आलाधिकारियों को भेजी गई हैं। उन्होंने बताया कि अभियान को सफल बनाने में कोविड सर्विलांस प्रभारी डॉ रणवीर सिंह, नीरज उपाध्याय, मुकेश तिवारी, रेनू, अंजु जैन, जोगराज, मुकेश तिवारी, गुंजन, समीत कुमार आदि अधिकारियों व कर्मचारियों का विशेष योगदान रहा।