लद्दाख की गलवान घाटी में भारत व चीन के बीच सैन्य झड़प में चीन की कायराना हरकत के विरोध में लोगों में आक्रोश का माहोल है। देशवासियों ने चीन को सबक सिखाने की ठान ली है और देश में बॉयकॉट मेड इन चाइना की मुहिम तेज होती जा रही है। देश में जगह जगह चाइनीज सामान का बहिष्कार किया जा रहा है। इसी मुहिम के तहत ग्रेनो वेस्ट स्थित स्प्रिंग मीडोज, ला रेसिडेंसिया, निराला एस्टेट और अन्य सोसायटियों के निवासियों ने दुकानदारों और लोगों को बॉयकॉट मेड इन चाइना के बारे में जागरुक कर जागरूकता अभियान चलाया।


ला रेसीडेंसीया निवासी सुमित बैसोया ने दुकानदारों से चाइनीज सामान का न खरीदने व न ही बेचने की अपील की है। इसके लिए निवासियों द्वारा सोसायटी व मार्केट में जगह जगह पोस्टर लगाए गए है। जिससे माध्यम से लोगों व दुकानदारों को चीनी सामान का बहिष्कार करने के बारे में जागरुक करना है । उन्होंने बताया कि चीन को करारा जवाब देने के लिए लोगों को सरकार पर निर्भर नहीं होकर, नागरिकता स्तर पर जो कुछ हो सकता है वह करना चाहिए। इससे चीन की अर्थवयवस्था खुद ही चरमरा जाएगी।
निराला निवासी कुमार सौरभ का कहना है कि असल में सीमा पर हुई झड़प का विरोध करने के लिए बहुत सारे लोगों ने टिकटॉक को अनइंस्टॉल भी कर दिया है। चीनी ऐप को डिलीट करने के लिए एक (रिमूव चाइना ऐप) ऐप भी है। जिसके लोगों से मोबाइल में इंस्टॉल करके और चाईनीज ऐप डिलीट करने की अपील की। इस मौके पर श्याम, कुमार सौरभ, विकास कटियार, अमित शर्मा, सागर गुप्ता, रंजन प्रसाद, प्रवीण चौहान, शशिकांत, सुहैल, सुबीर आदि मौजूद रहे।