उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले के सील 13 हॉट स्पॉट इलाकों में स्वास्थ्य विभाग अब कम्युनिटी टेस्टिंग करवाएगा। इसके लिए 14 टीमों का गठन किया गया है, इनमें एक टीम कम्बाइंड अस्पताल में रहेगी। सीएमओ ने बताया कि सभी टीमें रोजाना कम से कम 500 लोगों के सैंपल लेंगी, जिन्हें जांच के लिए दिल्ली एनसीडीसी भेजा जाएगा।

सीएमओ डॉ. एनके गुप्ता ने बताया कि शासन स्तर से कम्युनिटी में रैंडम चेकिंग के निर्देश जारी किए गए हैं। इसके लिए जिले में 14 टीमों का गठन किया गया है। एक टीम में एक लैब टेक्निशियन और एक सहयोगी रहेगा। 13 टीमों को हॉट स्पॉट इलाकों में तैनात किया गया है। जिन इलाकों को सील किया गया है, वहां प्रत्येक घर में स्क्रीनिंग की जाएगी। इसके साथ ही पूरे इलाके को सैनिटाइज किया जाएगा। स्क्रीनिंग का कार्य आशा और एएनएम करेंगी, जबकि टेस्टिंग के लिए अलग टीमों का गठन किया गया है।

एक टीम रोजाना 50 सैंपल जांच के लिए लेगी

सीएमओ ने बताया कि स्क्रीनिंग के दौरान जिस किसी में भी कोरोना जैसे लक्षण नजर आएंगे, उनकी सूचना संबंधित क्षेत्र की टेस्टिंग टीम को दी जाएगी। यह टीम लक्षण वाले व्यक्ति का सैंपल लेगी। इसके अलावा एक टीम रोजाना लगभग 35 से 50 सैंपल रैंडम तौर पर लेकर जांच के लिए भेजेगी। इससे हॉट स्पॉट वाले इलाके में कोरोना संक्रमण फैलने को लेकर सटीक जानकारी हो सकेगी। फिलहाल, हॉट स्पॉट वाले इलाकों में ही रैंडम टेस्टिंग के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा अन्य इलाकों में भी जल्द ही रैंडम टेस्टिंग शुरू करवाई जा सकती है।


गाजियाबाद में अधिकारियों ने तय किया है कि कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए हॉटस्पॉट वाले इलाकों में रोज 500 नमूने जांच किए जाएंगे।