प्रदेश में कोरोनावायरस से संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इनके इलाज में लगे मेडिकल व पैरामेडिकल स्टॉफ की सुरक्षा महत्वपूर्ण है। ऐसे में एचसीएल (हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड) प्रदेश में एक लाख पीपीई किट और 50 हजार एन-95 मास्क और सप्लाई करेगा। यह किट प्रदेश की विभिन्न कंपनियों में बनाए जा रहे हैं। पिछले माह एचसीएल एक लाख पीपीई किट व एक हजार वॉयरल ट्रांसपोर्ट मीडिया (वीटीएम) प्रदेश के 75 जिलों में सप्लाई कर चुका है। प्रदेश सरकार की ओर से दिए गए लक्ष्य की प्राप्ति व अतरिक्त डिमांड को देखते हुए आगे भी सप्लाई के लिए एचसीएल ने यह फैसला किया है। एचसीएल कंपनी मुख्यतया कंप्यूटर, लैपटॉप व सॉफ्टवेयर बनाती है।

संक्रमण से बचाने मेंपीपीई किट का अहम रोल

कोविड-19 के मरीजों का इलाज करने के लिए सुरक्षा की दृष्टि से पीपीई किट पहनना अनिवार्य है। प्रदेश में मेडिकल सप्लाई में पीपीई किट को शामिल किया गया। इसमे सबसे बड़े सप्लायर की भूमिका एचसीएल ने अदा की। शहर में करीब 12 ऐसी कंपनियां हैं, जो पीपीई किट का निर्माण कर रही है। यह सभी कंपनियां सीट्रा और डीआरडीओ से एप्रूव है। शहर में प्रतिदिन करीब 17 हजार 700 किट बनाई जा रही है। यह किट एचसीएल को दी जाती है। इसके बाद मांग के अनुरूप यह किट अलग-अलग जिले में सप्लाई की जा रही है। मांग के अनुरुप एचसीएल ने एक लाख किट का लक्ष्य तय किया था। जिसे अब पूर्ण कर लिया गया है। कंपनी ने 75 जिलों में एक लाख किट सप्लाई की।

वीटीएम की सप्लाई के लिए महाराष्ट्र की कंपनी से किया अनुबंध

वहीं, वीटीएम किट का निर्माण प्रदेश में काफी कम स्तर पर किया जाता है। ऐसे में इसकी डिमांड को पूरा करने के लिए प्रदेश सरकार के निर्देश पर महाराष्ट्र की कंपनी से अनुबंध किया गया। वहां से एक हजार वीटीएम किट की सप्लाई प्रदेश के कोविड अस्पतालों में की गई। बता दे वीटीएम किट एक प्रकार की ट्यूब होती है, जिसमें जांच के लिए संक्रमित का स्वैब लेकर रखा जाता है और उसे प्रयोगशाला तक पहुंचाया जाता है। एक किट के जरिए 50 लोगों की जांच के लिए सैंपल लिए जा सकते हैं। ऐसे में करीब 50 हजार लोगों की जांच के लिए किट दी जा चुकी है।

जिले में संक्रमितों की संख्या 300 पार, 209 ठीक हुए

गौतमबुद्धनगर जिले में कोरोनावायरस का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। गुरुवार को 9 नए मरीज सामने आए। जिससे यहां संक्रमितों की संख्या 302 पहुंच गई है। इनमें से 209 मरीज अब तक ठीक हो चुके हैं। 88 मरीज सक्रिय हैं, जिनका इलाज किया जा रहा है।

ओप्पो कंपनी के अब तक 14 कर्मचारी हुए संक्रमित
नोएडा में मोबाइल फोन निर्माता कंपनी ओप्पो के अब तक 14 कर्मचारी पॉजिटिव हो चुके हैं। गुरुवार को पांच और कर्मचारी संक्रमित पाए गए। इससे पहले कंपनी के 9 कर्मचारी संक्रमित मिले थे, जिसके बाद साढ़े तीन हजार कर्मचारियों की जांच कराई गई थी। जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ. सुनील कुमार दोहरे ने बताया कि ओप्पो के 173 कर्मचारियों की टेस्ट रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग को मिली हैं। इनमें से 5 कर्मचारियों को पॉजिटिव पाया गया है। डॉ. दोहरे ने बताया कि पांच संक्रमित कर्मचारियों में से दो लोग गौतमबुद्ध नगर के निवासी हैं। बाकी तीन लोग जिले में निवास नहीं कर रहे हैं। यह क्रॉस नोटिफाइड केस हैं। इनमें से 2 लोग बिहार के रहने वाले हैं और एक मथुरा में रहता है। लिहाजा, बिहार और मथुरा प्रशासन को इस बारे में जानकारी भेज दी गई है।


नोएडा शहर में करीब 12 ऐसी कंपनियां हैं, जो पीपीई किट का निर्माण कर रही है। यह सभी कंपनियां सीट्रा और डीआरडीओ से एप्रूव है। शहर में प्रतिदिन करीब 17 हजार 700 किट बनाई जा रही है। यह किट एचसीएल को दी जाती है। इसके बाद मांग के अनुरूप यह किट अलग-अलग जिले में सप्लाई की जा रही है।